Follow Raagdesh

twitter google_plus linkedin facebook mail
Jul 18
मोदी जी, भाषण के आगे क्या है?
राग देश  | क़मर वहीद नक़वी By: Qamar Waheed Naqvi
Comments: 1 

पन्द्रह अगस्त आ रहा है. लाल क़िले से अपने दूसरे भाषण के लिए नरेन्द्र मोदी तैयारी में जुटे हैं. मोदी बतायेंगे कि पिछले भाषण में जो- जो कहा था, वह सब काम शुरू हो चुका है— जन-धन योजना, मेक इन इंडिया, स्किल इंडिया, डिजिटल इंडिया वग़ैरह-वग़ैरह. लेकिन पिछली बार जिस एक बड़ी बात पर उन्होंने अपना आधा भाषण ख़र्च किया था, पूरे साल वही बात उनके एजेंडे में ज़ोर-शोर से क्यों नहीं आ पायी.


few ideas for modi's second independence-day-speech-Raag Desh 170715.JPG
'राग देश' ईमेल पर मंगाएँ
तो मोदी जी फिर तैयार हो रहे हैं. नहीं, नहीं, विदेश यात्रा के लिए नहीं! लाल क़िले से अपने दूसरे भाषण के लिए! क्या बोलना है, क्या कहना है? तैयारी हो रही है. सब मंत्रालयों से पूछा गया है. किन योजनाएं पर क्या काम हुआ है? इस साल किसके-किसके पास क्या नया आइडिया है. इस बार के भाषण में कैसी योजनाओं की घोषणा की जाये? मंत्रीगण तो ख़ैर अपने-अपने आइडिया देंगे ही. कुछ आइडिया तो हमारे पास भी हैं. ऐसे आइडिया, जो उन्हें शायद कोई न दे! उनके मंत्रीगण तो क़तई नहीं दे सकते! देना भी चाहें, तो भी नहीं!

क्या होगा इस पन्द्रह अगस्त के भाषण में?

तेरह, चौदह और पन्द्रह! वह तेरह के लालन कालेज वाले पन्द्रह अगस्त का भाषण याद है आपको, जहाँ से मोदी ने लाल क़िले पर चढ़ाई की थी! और जब चौदह में वहाँ पहुँच गये, तो लाल क़िले के उनके पहले भाषण में वह सब मुद्दे लापता थे, जो लालन कालेज में चमकाये गये थे! न भ्रष्टाचार, न महँगाई, न काला धन, न सीमा पार की नापाक साज़िशें, कुछ भी नहीं. तो इस बार का भाषण कैसा होगा? पिछले भाषण पर कोई बात होगी? ज़रूर होगी! मोदी बतायेंगे कि पिछले भाषण में जो-जो कहा था, उसमें कितना काम हो चुका है! प्रधानमंत्री जन-धन योजना के तहत सत्रह करोड़ खातों में बीस हज़ार करोड़ रुपये से ज़्यादा जमा हो चुके हैं, सांसद आदर्श ग्राम योजना के तहत छह सौ से ज़्यादा गाँवों को अपनाया जा चुका है, योजना आयोग की जगह नीति आयोग बन गया है, मेक इन इंडिया, स्किल इंडिया और डिजिटल इंडिया कार्यक्रमों की घोषणा हो चुकी है, स्मार्ट सिटी की योजना तैयार है और ईंधन पर सब्सिडी में एक साल में 126 अरब रुपये की बचत की जा चुकी है.

पुरानी टिप्पणी: लालन कालेज और लाल क़िले का फ़र्क़ 

Published 14 Jun 2014


तो सरकार ने इतना काम किया है. हाँ, काम तो किया है. इसमें शक नहीं. लेकिन इनमें से बहुत-सी चीज़ों का नतीजा जब दिखेगा या नहीं दिखेगा, तब ही उस पर बात हो सकती है. मिसाल के तौर पर यह अभी देखा जाना है कि जन धन योजना के खातों का बैंकों के स्वास्थ्य पर क्या असर पड़ेगा, जो पहले से ही 'एनपीए' और डूबे हुए क़र्ज़ों के भारी दबाव में हैं. सांसद आदर्श ग्राम योजना देखने में तो बेहद आकर्षक लगती है, लेकिन कई सांसदों को लगता है कि यह कई कारणों से व्यावहारिक नहीं है. बहरहाल यह योजना बस अभी ही शुरू हो पायी है. बाक़ी सारी योजनाओं का भी यही हाल है, जो बस हाल में ही शुरू हुई हैं. उनके नतीजों पर चर्चा के लिए तो हमें मोदी के अगले साल के भाषण तक इन्तज़ार करना ही पड़ेगा, लेकिन फ़िलहाल, इस साल के भाषण के लिए नरेन्द्र मोदी ख़म ठोक कर कह सकते हैं कि पिछले पन्द्रह अगस्त को जो कहा था, उसमें कुछ छूटा नहीं है. सब शुरू कर दिया है! वैसे यूपीए वालों का कहना है कि ज़्यादातर योजनाएँँ तो उनकी ही हैं, मोदी जी तो बस उनकी रि-ब्राँडिंग, रि-पैकेजिंग कर चकाचक मार्केटिंग कर रहे हैं! ठीक है, तो यूपीए को किसने रोका था मार्केटिंग करने से?

क्या राजनीतिक दलों को काले चन्दे पर भी बोलेंगे मोदी?

पिछले साल काले धन पर बात नहीं हुई थी, हो सकता है इस बार हो, क्योंकि सरकार विदेश में पड़े काले धन को उजागर करने की एक योजना ला ही चुकी है. लेकिन घरेलू काले धन पर रोक कैसे लगे? और राजनीतिक दल जिस काले चन्दे से चलते हैं, उसे बन्द करने के लिए भी सरकार कुछ करेगी क्या? मोदी इस पर बोलेंगे या चुप रहेंगे? और मोदी क्या अपने उस दावे पर भी बोलेंगे कि 2015 के अन्त तक संसद को अपराधियों से मुक्त कर देंगे! फ़िलहाल तो वह तीस्ता सीतलवाड के एनजीओ के चन्दे के हिसाब-किताब और अरविन्द केजरीवाल की पार्टी को 'अपराधियों से मुक्त' करने में लगे हैं! पिछली बार के भाषण में तो बड़ी ऊँची-ऊँची बातें कही थीं उन्होंने. तब तो कहीं लगा ही नहीं था कि मोदी ऐसी टुच्ची राजनीति भी करेंगे! फिर जाने क्या हुआ? अपना ही कहा भूल गये या पुरानी आदत की मजबूरी? और भ्रष्टाचार की चर्चा तो ख़ैर इस बार नहीं ही होगी! क्यों? यह भी बताना पड़ेगा क्या!
पिछली बार के भाषण से मैं तो बड़ा ख़ुश हुआ था कि चलो, कम से कम नरेन्द्र मोदी ने तो देश का सारी समस्याओं की असली जड़ पकड़ ली और अपना आधा भाषण इसी पर रखा. कुछ याद आया आपको? नमो ने कहा था, अगर हर नागरिक एक-एक क़दम उठाये तो सवा अरब क़दम उठ जायेंगे! देश का हर नागरिक अपनी ज़िम्मेदारी निभाये, देश का हित देखे. डाक्टर गर्भ का लिंग परीक्षण न करें, माँ-बाप अगर बेटों पर ध्यान दें तो उन्हें आतंकवादी और बलात्कारी बनने से बचाया जा सकता है, लोग गलियों, सड़कों पर गन्दगी न करें, तो देश साफ़-सुथरा रहेगा, टूरिस्टों को यहाँ आना अच्छा लगेगा, वग़ैरह-वग़ैरह. देश की सारी समस्याओं की जड़ तो यही है कि लोग अपनी ज़िम्मेदारी को लेकर क़तई ईमानदार नहीं हैं. और अगर यह जड़ सही हो गयी, तो देश ऐसे ही सोने की चिड़िया बन जायेगा. लेकिन सवाल यही है कि यह हो कैसे? अब स्वच्छ भारत अभियान को ही ले लीजिए. बड़े तामझाम से शुरू हुआ. नयी-नयी झाड़ुओं के साथ ख़ूब फ़ोटो खिंचे. सौ करोड़ रुपये विज्ञापनों पर फुँक गये. लेकिन हुआ क्या? न कचरा कम हुआ, न कचरा डालनेवाले सुधरे. बाक़ी जगहों की तो छोड़ दीजिए, जहाँ-जहाँ बीजेपी की सरकारें हैं या नगरपालिकाएँ हैं, वहाँ भी कोई ऐसी कोशिश नहीं हुई कि शहर की हालत बदले!

बड़ी बातें ही क्यों पड़ी रह गयीं?

बीजेपी वालों ने ही अपने प्रधानमंत्री की बातों पर रत्ती भर भी अमल नहीं किया! और न ही मोदी को ही फ़ुर्सत रही कि कम से कम वह जनता को इस हद तक प्रेरित कर देते कि स्वच्छ भारत अभियान देश का राष्ट्रीय अभियान बन जाता और देश का एक-एक नागरिक इसमें शामिल हो गया होता. सिर्फ़ विज्ञापन देने, भाषण करने और फ़ोटो खिंचा लेने से तो यह होगा नहीं. मोदी ने साम्प्रदायिकता और जातिवाद जैसी बुराइयों पर दस साल के लिए रोक की अपील भी सबसे की थी, लेकिन परिवार के लोग पूरे साल ज़हर उगलते रहे. मतलब? क्या वह भाषण बस भाषण के लिए था?

पुरानी टिप्पणी: भाषण बस भाषण के लिए!

Published 21 Feb 2015


नरेन्द्र मोदी को इस साल के भाषण के लिए बस मेरे पास एक ही आइडिया है. अगर आप सवा अरब क़दम उठवा सकें और इसी एकसूत्रीय कार्यक्रम पर पूरा ज़ोर लगा दें तो अपने आप देश का कायाकल्प हो जायेगा. लेकिन यह काम सिर्फ़ भाषण और विज्ञापन से नहीं होगा, ईमानदारी से होगा. पहले ख़ुद आप उस पर अमल करें, फिर आपकी पार्टी उस पर चले, परिवार चले, तो देश अपने आप चल पड़ेगा. ज़रूरी है कि सड़क का कचरा भी साफ़ हो और मन भी! बदले के बजाय बदलाव की राह पर चलें. दूसरे तो तभी बदलेंगे, जब आप भी कुछ बदलें, क्योंकि आप देश के प्रधानमंत्री हैं, नेता हैं. माना कि सिद्धाँत रूप से इफ़्तार पार्टियों का चोंचला आपको पसन्द न हो, मुझे भी क़तई पसन्द नहीं है. आप ख़ुद इफ़्तार पार्टी न दें. बिलकुल ठीक. लेकिन राष्ट्रपति की इफ़्तार पार्टी हो तो कम से कम प्रोटोकाॅल का ही सम्मान रख लेते! बहरहाल मर्ज़ी आपकी! लेकिन क्या आपके दिखाये इसी रास्ते पर देश को चलना चाहिए?
http://raagdesh.com


Related Post: एक भाषण और सवा अरब क़दम!

Published 17 Aug 2014
'राग देश' ईमेल पर मंगाएँ

ADD COMMENT
  • Kishan Sharma

    Stuck in a groove !

Most Viewed
muslim-population-myth-and-reality

क्यों बढ़ती है मुसलिम आबादी?

 

तो साल भर से रुकी हुई वह रिपोर्ट अब...
Posted On 24th Jan 2015 2:21 hrs
economic-backwardness-literacy-and-muslim-population-growth

मुसलिम आबादी मिथ, भाग-दो!
मुसलिम आबादी का मिथ - भाग दो! पहला भाग कब आया? शायद 'राग...
Posted On 27th Aug 2016 7:47 hrs
can-demonetisation-curb-black-money

तो क्या ख़त्म हो जायेगा काला धन?
बस एक महीने पहले ही मैंने 'राग देश' में लिखा था कि कुछ...
Posted On 12th Nov 2016 12:35 hrs
मेरे बारे में….
स्वतंत्र स्तम्भकार. पेशे के तौर पर 35 साल से पत्रकारिता में. आठ साल तक (2004-12) टीवी टुडे नेटवर्क के चार चैनलों आज तक, हेडलाइन्स टुडे, तेज़ और दिल्ली आज तक के न्यूज़ डायरेक्टर. 1980 से 1995 तक प्रिंट पत्रकारिता में रहे और इस बीच नवभारत टाइम्स, रविवार, चौथी दुनिया में वरिष्ठ पदों पर काम किया. 13-14 साल की उम्र से किसी न किसी रूप में पत्रकारिता और लेखन में सक्रियता रही. Read more
त्वरित टिप्पणी
तीन तलाक़ और नयी सोशल इंजीनियरिंग तीन तलाक़ पर फ़ैसले के बाद क्या अब एक नयी सोशल इंजीनियरिंग की शुरुआत होगी? और अगर ऐसा हुआ तो क्या देश की राजनीति में हम एक नया मोड़ देखेंगे? ठीक वैसे ही जैसे मंडल के बाद दलित-पिछड़ा राजनीति के बिलकुल नये समीकरण देखे गये थे. हालाँकि पिछले तीन साल में [..] Read More
Follow Us On Facebook

Recent Posts