Follow Raagdesh

twitter google_plus linkedin facebook mail
Feb 01
वोट ख़रीदने के लिए दंगे मत बेचिए!
राग देश  | क़मर वहीद नक़वी By: Qamar Waheed Naqvi
Comments: 0 

1984 में सिखों के नरसंहार की बात बीजेपी ने ज़ोर-शोर से क्यों नहीं उठायी? तब कुछ ही दिनों बाद काँग्रेस हाहाकारी बहुमत से जीत गयी थी. आज तीस साल बाद बीजेपी को 84 के दंगे क्यों याद आ रहे हैं? इसी तरह अब 2014 में काँग्रेस को गुजरात दंगे क्यों याद आ रहे हैं. खेल में नयी-नवेली 'आप' भी कूद पड़ी. उसने 84 दंगों की जाँच के लिए एक नयी एसआइटी बैठाने की तान छेड़ दी.


1984-and-2002-riots-ghosts-haunting-elections-2014
'राग देश' ईमेल पर मंगाएँ
ऐ मेरे वतन के लोगो, चुनाव आ गये हैं. हुँह! चुनाव क्या पहली बार आये हैं. वह तो आते ही रहते हैं. सही कहा आपने. चुनाव तो पाँच साल पहले भी आये थे, दस साल पहले भी आये थे, और पहले भी आये, पच्चीस साल पहले भी आये थे. लेकिन ऐ मेरे वतन के लोगो, इस बार के चुनाव में कुछ तो ख़ास है. ऐसा कुछ, जो पहले के किसी चुनाव में कभी नहीं रहा. वरना दो-दो दंगों की खड़ताल अचानक क्यों बजायी जाने लगी होती. एक दंगे को बारह साल बीत गये, दूसरे को तीस साल! खड़ताल आज बज रही है! तेरा दंगा मेरे दंगे से ज़्यादा गंदा था!

जगाये जा रहे हैं पुराने दंगों के प्रेत!

ये अपने देश की राजनीति है! बरसों पुराने प्रेतों को फिर से जगाया जा रहा है. घाव छीले जा रहे हैं. इसलिए नहीं कि किसी को कहीं मरहम लगाना है. इसलिए भी नहीं कि किसी को अपने किये पर वाक़ई कोई पछतावा हो! इसलिए भी नहीं कि किसी को रत्ती भर भी यह एहसास हो कि उन उजड़ी ज़िन्दगियों का क्या हुआ? इसलिए नहीं कि इतिहास के इन कलंकों से कोई लज्जित है और कोई उनको धोना चाहता है.

राजनीति में शर्म के लिए कभी कोई जगह नहीं होती! वह पाँसों का खेल है. जब जैसे गोटी लाल होती हो, कर लो, चाहे यह किसी के ख़ून का लाल रंग ही क्यों न हो. और खिलाड़ी चाहे जो हो, खेल की चालें, तरकीबें, तिकड़में और तड़ी वही की वही रहती हैं! इसीलिए प्रेत जगाये जा रहे हैं. प्रेत जगेंगे तो वोट गिरेंगे. धड़ाधड़!

बीन की धुन पर डोलती जनता

जनता महज़ वोट है. या वोट बैंक है. वह बीन की धुन पर डोलती रहती है. वैसे कभी-कभार वह ग़लती से डस भी लेती है. लेकिन मदारी के पास ज़हरमोहरा भी होता, जनता के काटे का इलाज वह कर लेता है. वह फिर बीन बजाने लगता है. जनता फिर डोलने लगती है. मन डोले मेरा तन डोले....मेरे दिल का गया क़रार रे....ये कौन बजाये बाँसुरिया....! और जब दिल बेक़रार हो तो होश किसे रहता है! बाँसुरी बजाओ, बीन बजाओ, खड़ताल बजाओ, जनता कहीं न कहीं तो डोलेगी, कहीं तो पटेगी, प्रेत जगाओ, जनता कहीं तो चिपटेगी!

84 के चुनाव में सिख दंगों पर बीजेपी क्यों नहीं बोली?

पार्टियाँ वही हैं, नेता बदल गये हैं. समय के चक्र ने चाहे-अनचाहे युद्ध में दो चेहरों को आमने-सामने ला खड़ा किया है. पहले चेहरे दूसरे थे, इसलिए लड़ाई के हथियार भी दूसरे थे. वरना 1984 में सिखों के नरसंहार की बात बीजेपी ने ज़ोर-शोर से क्यों नहीं उठायी? तब कुछ ही दिनों बाद काँग्रेस हाहाकारी बहुमत से जीत गयी थी.

आज 84 के दंगों को लेकर बेचारी बीजेपी रो-रो कर हलकान है, तीस साल पहले उसकी बोलती क्यों बन्द थी? कोई नहीं पूछता. और पंजाब धीरे-धीरे आतंकवाद के मुहाने पर क्यों जा पहुँचा था, पूरे देश में सिखों के ख़िलाफ़ नफ़रत धीरे-धीरे किसने और कैसे रोपी, ज़रा इतिहास को खंगालिए, उस समय के अख़बारों, पत्रिकाओं के पन्ने पलटिये, जवाब मिलने शुरू हो जायेंगे.

अब काँग्रेस को क्यों याद आ रहे हैं 2002 के दंगे?

गुजरात में 'मौत के सौदागर' का जुमला बोल कर गच्चा खायी काँग्रेस ने बाद में वहाँ 2002 को परदे में रखना शुरू कर दिया था. अब 2014 में अचानक याद्दाश्त की घंटी घनघना उठी. क्यों? जवाब इतना कठिन है क्या कि यहाँ लिखना पड़े? इधर दिल्ली की राजनीति में एक नये खिलाड़ी ने परचम लहराया है.

और 'आप' का पैंतरा!

काँग्रेस और बीजेपी जब 2002 और 1984 को लेकर सींगे लड़ा रही थीं कि तभी 'आप' ने 1984 के लिए एक नयी एसआइटी बैठाने की तान छेड़ दी. राजनीति का ककहरा बड़ी जल्दी सीख लिया! होनहार बिरवान के होत चीकने पात! हालाँकि 'आप' वाले कहेंगे कि यह बात तो उन्होंने अपने चुनावी घोषणापत्र में कही थी, उसे ही पूरा किया है. कही होगी. बात बस मौक़े और 'टाइमिंग' की है!

अब 'आप' के इस बिरवे से पेड़ कैसा बनेगा, बनेगा भी या नहीं, यह अटकलपच्ची करने की फ़िलहाल जगह यहाँ नहीं है. लेकिन 'आप' की तान ने सुर ऐसा बिगाड़ा कि बाटला हाउस का जिन्न बन्द बोतल से बाहर आ गया. उधर, उत्तर प्रदेश पहले से ही मुज़फ़्फ़रनगर से चोटिल पड़ा है. ध्रुवीकरण का बिरवा रोपा जा चुका है. चुनाव में फ़सल काटने के लिए सब अपने-अपने हँसिया पर सान चढ़ाने में लगे हैं!

चुनावों को देख कर याद आते हैं मदारी!

अब तक कोई विकास बेच रहा था, और विकास की बट्टी पर पिछड़ी जाति का लेबल भी छापे था, टी स्टाल के साथ इंडिया का आइडिया भी पकड़ा रहा था, कोई भ्रष्टाचार मिटाने के नौ-नौ हथियारों की दुकान सजाने में लगा था, कोई सब कुछ साफ़ करने के लिए झाड़ू चमका रहा था. लेकिन क्या पता, तमाम सलमा-सितारा जड़ी पैकिंग के बावजूद ग्राहक फँसे न फँसे, सो बीन-बाजे का इन्तज़ाम ज़रूरी है न.

हमारे बचपन में सड़कों पर तमाशा दिखाने वाले मदारी अकसर मजमा लगाते थे, कभी बन्दर-बन्दरिया का नाच दिखाते, कभी साँप-नवेले की लड़ाई दिखाने का स्वाँग भरते, बनी बजती रहती, नाग महाराज बीन के आगे डोलते रहते, लम्बी-लम्बी ऐसी हाँकते कि सब चकित से सुनते रहते और जिस-जिसकी जेब में पैसे होते, वह 'ज़हर मारने की बूटी' या रातोंरात मालामाल बना देनेवाली 'चमत्कारी सिद्ध अँगूठी' ख़रीद कर ही लौटता. मदारी आते रहते, जाते रहते, उनकी कहानियाँ चलती रहतीं, उनका खोटा माल बिकता रहता, चमत्कार लालायित जनों की जेबों पर मदारीगण लगातार चमत्कार दिखा कर उनकी जेबें ख़ाली करते रहते, बार-बार.

चुनावों को देख कर हर बार वही मदारी याद आ जाते हैं. हर बार वही खेल. वही चमत्कारी अँगूठियाँ, जो किसी काम की नहीं होतीं----ग़रीबी हटाओ; हर हाथ को काम, हर खेत को पानी; देश बचाओ आदि-आदि. लेकिन इस बार खेल ज़रा ज़्यादा ही संगीन लगता है. यह ज़हरमोहरा बेचने का खेल नहीं है, बल्कि यह ज़हर फैलाने का मामला लगने लगा है. वरना दंगों के प्रेतों का आह्वान न किया जाता. वोट ख़रीदने के लिए दंगे मत बेचिए!
(लोकमत समाचार, 1 फ़रवरी 2014)
© 2014 http://raagdesh.com by Qamar Waheed Naqvi

email: qwnaqvi@raagdesh.com
'राग देश' ईमेल पर मंगाएँ

ADD COMMENT
Most Viewed
muslim-population-myth-and-reality

क्यों बढ़ती है मुसलिम आबादी?

 

तो साल भर से रुकी हुई वह रिपोर्ट अब...
Posted On 24th Jan 2015 2:21 hrs
economic-backwardness-literacy-and-muslim-population-growth

मुसलिम आबादी मिथ, भाग-दो!
मुसलिम आबादी का मिथ - भाग दो! पहला भाग कब आया? शायद 'राग...
Posted On 27th Aug 2016 7:47 hrs
can-demonetisation-curb-black-money

तो क्या ख़त्म हो जायेगा काला धन?
बस एक महीने पहले ही मैंने 'राग देश' में लिखा था कि कुछ...
Posted On 12th Nov 2016 12:35 hrs
मेरे बारे में….
स्वतंत्र स्तम्भकार. पेशे के तौर पर 35 साल से पत्रकारिता में. आठ साल तक (2004-12) टीवी टुडे नेटवर्क के चार चैनलों आज तक, हेडलाइन्स टुडे, तेज़ और दिल्ली आज तक के न्यूज़ डायरेक्टर. 1980 से 1995 तक प्रिंट पत्रकारिता में रहे और इस बीच नवभारत टाइम्स, रविवार, चौथी दुनिया में वरिष्ठ पदों पर काम किया. 13-14 साल की उम्र से किसी न किसी रूप में पत्रकारिता और लेखन में सक्रियता रही. Read more
त्वरित टिप्पणी
तीन तलाक़ और नयी सोशल इंजीनियरिंग तीन तलाक़ पर फ़ैसले के बाद क्या अब एक नयी सोशल इंजीनियरिंग की शुरुआत होगी? और अगर ऐसा हुआ तो क्या देश की राजनीति में हम एक नया मोड़ देखेंगे? ठीक वैसे ही जैसे मंडल के बाद दलित-पिछड़ा राजनीति के बिलकुल नये समीकरण देखे गये थे. हालाँकि पिछले तीन साल में [..] Read More
Follow Us On Facebook

Recent Posts