Follow Raagdesh

twitter google_plus linkedin facebook mail
Sep 06
यही होगा तो साख कहाँ से आयेगी?
राग देश  | क़मर वहीद नक़वी By: Qamar Waheed Naqvi
Comments: 0 

'राग देश' ईमेल पर मंगाएँ

सदाशिवम जी भारत के मुख्य न्यायाधीश रहे हैं. उन्हें राज्यपाल बनना चाहिए था या नहीं, क्या यह सवाल उनके लिए इतना कठिन है? क्या इसके लिए क़ानून की मोटी-मोटी पोथियाँ पलटने की ज़रूरत है? नहीं! सिर्फ़ अपनी अन्तरात्मा से पूछ लीजिए! वह बता देगी! अन्तरात्मा भी दुविधा में हो, तो अपने आसपास किसी बाज़ार में, मुहल्ले में घूम-टहल कर किन्हीं दस-बीस लोगों से पूछ लीजिए कि आपको इस 'बड़े कठिन' सवाल का जवाब नहीं मिल पा रहा है. और देखिएगा, लोग कैसे चुटकियों में आपकी समस्या हल कर देंगे कि माननीय जज साहब, भारत का मुख्य न्यायाधीश होने के बाद राज्यपाल की कुर्सी पर बैठने का आपका फ़ैसला सही नहीं लगता!

--- क़मर वहीद नक़वी By: Qamar Waheed Naqvi

बच्चे थे, तब से सुन रहे हैं! शायद तब से अब तक हज़ारों बार सुन-पढ़ चुके हैं! न्याय न सिर्फ़ होना चाहिए, बल्कि होते हुए दिखना भी चाहिए! तो बाकी बातें छोड़ दीजिए, बस जी कर रहा है कि यही एक सवाल माननीय पी. सदाशिवम जी से पूछूँ. वह अपने दिल पर हाथ रख कर ईमानदारी से जवाब दे दें. उन्होंने जो क़दम उठाया है, क्या वह इस एक लाइन की कसौटी पर खरा उतरता है? न्याय न केवल हो, बल्कि होते हुए दिखे भी! उन्होंने जो फ़ैसला लिया है, वह न केवल उनकी निगाह में सही हो, बल्कि न्यायिक बिरादरी को भी, आम जनता को भी लगे कि यह फ़ैसला सही है. क्या उनके केरल का राज्यपाल बनने से न्यायपालिका की, न्यायाधीशों की गरिमा बढ़ेगी? न्यायपालिका की स्वतंत्रता को इस फ़ैसले से बल मिलेगा? क्या इन सवालों का जवाब हाँ है?

क्या यह सवाल इतना 'कठिन' था?

सदाशिवम जी भारत के मुख्य न्यायाधीश रहे हैं. अभी चार महीने पहले रिटायर हुए हैं. क्या यह सवाल उनके लिए इतना कठिन है? क्या इसके लिए क़ानून की मोटी-मोटी पोथियाँ पलटने की raagdesh should justice sathashivam has taken up governorshipज़रूरत है? नहीं! सिर्फ़ अपनी अन्तरात्मा से पूछ लीजिए! वह बता देगी! बड़े-बड़े पूर्व जज, क़ानूनविद्, पत्रकार-समीक्षक वग़ैरह-वग़ैरह क्या कह रहे हैं, मत सुनिए. अन्तरात्मा भी दुविधा में हो, तो अपने आसपास किसी बाज़ार में, मुहल्ले में घूम-टहल कर किन्हीं दस-बीस लोगों से पूछ लीजिए कि आपको इस 'बड़े कठिन' सवाल का जवाब नहीं मिल पा रहा है. और देखिएगा, लोग कैसे चुटकियों में आपकी समस्या हल कर देंगे कि माननीय जज साहब, भारत का मुख्य न्यायाधीश होने के बाद राज्यपाल की कुर्सी पर बैठने का आपका फ़ैसला सही नहीं लगता!

 सुप्रीम कोर्ट का फ़ैसला क्यों याद नहीं आया?

जस्टिस सदाशिवम के अपने तर्क हैं. वह कहते हैं कि अमित शाह के मामले में उन्होंने वही किया, जो क़ानून के मुताबिक उचित था. और जब उन्होंने अमित शाह को राहत दी थी तो किसे पता था कि वह आगे चल कर बीजेपी अध्यक्ष बन जायेंगे? ठीक. लेकिन सवाल सिर्फ़ यही नहीं है. सवाल कई हैं. मसलन, आज तक भारत का कोई मुख्य न्यायाधीश कभी राज्यपाल नहीं बना. न पहले किसी सरकार ने कभी ऐसा प्रस्ताव ही किया. यानी आज तक कहीं न कहीं परम्परा में माना जाता रहा कि भारत का मुख्य न्यायाधीश होना राज्यपाल होने के मुक़ाबले बहुत बड़ी बात है! इसलिए किसी ने कभी ऐसा सोचा नहीं! फिर आज राज्यपालों का मामला ऐसे ही विवादों में है. बरसों पहले सुप्रीम कोर्ट राज्यपालों के बदले जाने पर अपनी साफ़-साफ़ राय दे चुका है. सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले को अनदेखा कर सारे राज्यपाल बदले गये. क्या सरकार ने ऐसा कर सही किया? और क्या ऐसे में, सुप्रीम कोर्ट के ही एक रिटायर्ड चीफ़ जस्टिस का उस कुर्सी पर बैठना सही है, जहाँ से मौजूदा राज्यपाल को बिना वजह हटाया गया?

ख़तरे में न्यायपालिका की स्वतंत्रता

तीसरी बात कि प्रस्तावित नये संविधान संशोधन से न्यायपालिका की स्वतंत्रता को लेकर नये सवाल खड़े हो गये हैं. जजों की भर्ती के नये प्रस्तावित तरीक़े को लेकर सुप्रीम कोर्ट चिन्तित है. मौजूदा सरकार ही नहीं, देश का समूचा राजनीतिक तंत्र और तमाम राजनीतिक दल अदालतों पर नकेल कसना चाहते हैं. यह सही है कि न्यायपालिका में भ्रष्टाचार और जजों की नियुक्ति की मौजूदा व्यवस्था को लेकर बहुत-से सवाल खड़े हुए हैं और उसमें ज़रूरी सुधार जल्दी से जल्दी होने चाहिए, लेकिन सब जानते हैं कि केन्द्र सरकार की ताज़ा कोशिशें क़तई ईमानदार नहीं हैं और उससे न्यायपालिका की स्वतंत्रता को लेकर गम्भीर ख़तरा पैदा हो जायेगा. क्या जस्टिस सदाशिवम ने इस सवाल पर सोचा? फिर जस्टिस सदाशिवम सिर्फ़ चार महीने पहले रिटायर हुए हैं. इतनी जल्दी सरकार की 'मेहरबानी' स्वीकार करना क्या उचित है? और इस आख़िरी सवाल का जवाब तो बीजेपी को भी देना चाहिए. अरुण जेटली जी बड़े वक़ील हैं. क़ानून के बड़े दिग्गज जानकार. दो साल पहले अपनी ही पार्टी के एक मंच पर उन्होंने कहा था कि न्यायाधीशों में रिटायर होने के बाद पद लेने की होड़ मची रहती है, इससे न्यायपालिका की निष्पक्षता पर असर पड़ता है! तब नितिन गडकरी बीजेपी अध्यक्ष हुआ करते थे. उनका कहना था कि रिटायरमेंट के बाद जजों के लिए दो साल का कूलिंग पीरियड होना चाहिए. बताइए, आज आपका क्या कहना है गडकरी और जेटली जी? वैसे तो राजनेता हमेशा सुविधा की याद्दाश्त रखते हैं. इसलिए हो सकता है यह बात अब याद ही न हो! लेकिन अगर याद भी हो तो कर ही क्या सकते हैं? यह 'वह वाली बीजेपी' तो है नहीं. अब तो जो शाह और मोदी कहें, वही सही! बाक़ी सब बजायें ताली!

दोनों की बेक़रारी, आख़िर मामला क्या है?

तो लब्बो-लुबाब यह कि माननीय सदाशिवम जी जो भी कहें, समझ में नहीं आया कि राज्यपाल बनने को वह इतना आतुर क्यों हुए कि अपनी और न्यायपालिका की साख दाँव पर लगाने से भी नहीं हिचके? और समझ में नहीं आया कि केन्द्र सरकार उन्हें ही राज्यपाल बनाने को इस हद तक लालायित क्यों हुई? कुछ न कुछ तो होगा ही न! कुछ न भी हो तो भी दोनों की बेक़रारी देख कर लोग तो कहेंगे ही कि कुछ न कुछ तो होगा ही! संकट साख का है. संकट एक ग़लत परम्परा की शुरुआत का है. क्या यह सिलसिला यहीं थम सकेगा? क्या आगे और ढलान नहीं है? अगर न्यायपालिका अपने भीतर ऐसे मानक, ऐसे तंत्र नहीं विकसित कर सकी कि उसकी स्वतंत्रता और गरिमा बनी रहे तो देखते ही देखते हमारे सामने बस न्याय का एक नक़ली महल होगा. चीज़ें अकसर देखते ही देखते रेत की तरह मुट्ठी से फिसल जाती हैं. देखते ही देखते मीडिया मुखौटा बन गया! अब चुनौती न्यायपालिका के सामने है.

और रंजीत सिन्हा के ये 'मुलाक़ाती'

साख का यह संकट कहाँ नहीं है. सीबीआइ प्रमुख रंजीत सिन्हा के घर मुलाक़ातियों की जो सूची सामने आयी है, वह अगर सही है तो मामला वाक़ई गम्भीर नहीं है क्या? कोई-कोई 'मुलाक़ाती' सैंकड़ों-सैंकड़ों बार उनसे क्यों मिला, कोई-कोई 60-70 बार क्यों मिला और इनमें से कोई-कोई दिन में चार-चार, पाँच-पाँच बार क्यों मिला भाई? और इनमें एक सज्जन हैं गोश्त के निर्यातक. एक और सीबीआइ निदेशक से उनके रिश्तों को लेकर इनकम टैक्स विभाग पहले ही जाँच कर रहा है. अब सिन्हा साहब के मामले में भी उनका नाम प्रमुखता से आया है! तो सब संयोग है क्या? तो सीबीआइ 'पिंजड़े में क़ैद तोता' है या 'ड्राइक्लीनिंग कम्पनी?' या दोनों? ज़रा पीछे नज़र दौड़ाइए और देखिए कि किन बड़े मामलों में सीबीआइ अपनी जाँच सफलतापूर्वक पूरी कर सकी और आरोपियों को सज़ा दिलवा सकी? एक चारा घोटाले में लालू यादव का मामला छोड़ दीजिए तो बोफ़ोर्स से लेकर मायावती और मुलायम सिंह तक के ख़िलाफ़ सारे मामलों में सीबीआइ को 'पूरे सबूत' नहीं मिल सके! ये सारे के सारे मामले बड़े ज़ोर-शोर से उछले, ख़ूब शोर मचा, लेकिन अन्त में निकला क्या? कुछ नहीं! तो यही सब होगा तो साख कहाँ से आयेगी? साख ख़रीदी नहीं जा सकती, बनानी पड़ती है. और लोकतंत्र साख की बुनियाद पर ही चलता है. तो सोचिए कि क्या हम यह सब करके साख बना रहे हैं? क्या हम चाहते हैं कि हमारा लोकतंत्र ज़िन्दा रहे और आगे बढ़े? (लोकमत समाचार, 06 सितम्बर 2014)  
'राग देश' ईमेल पर मंगाएँ

ADD COMMENT
Most Viewed
muslim-population-myth-and-reality

क्यों बढ़ती है मुसलिम आबादी?

 

तो साल भर से रुकी हुई वह रिपोर्ट अब...
Posted On 24th Jan 2015 2:21 hrs
economic-backwardness-literacy-and-muslim-population-growth

मुसलिम आबादी मिथ, भाग-दो!
मुसलिम आबादी का मिथ - भाग दो! पहला भाग कब आया? शायद 'राग...
Posted On 27th Aug 2016 7:47 hrs
can-demonetisation-curb-black-money

तो क्या ख़त्म हो जायेगा काला धन?
बस एक महीने पहले ही मैंने 'राग देश' में लिखा था कि कुछ...
Posted On 12th Nov 2016 12:35 hrs
मेरे बारे में….
स्वतंत्र स्तम्भकार. पेशे के तौर पर 35 साल से पत्रकारिता में. आठ साल तक (2004-12) टीवी टुडे नेटवर्क के चार चैनलों आज तक, हेडलाइन्स टुडे, तेज़ और दिल्ली आज तक के न्यूज़ डायरेक्टर. 1980 से 1995 तक प्रिंट पत्रकारिता में रहे और इस बीच नवभारत टाइम्स, रविवार, चौथी दुनिया में वरिष्ठ पदों पर काम किया. 13-14 साल की उम्र से किसी न किसी रूप में पत्रकारिता और लेखन में सक्रियता रही. Read more
त्वरित टिप्पणी
तीन तलाक़ और नयी सोशल इंजीनियरिंग तीन तलाक़ पर फ़ैसले के बाद क्या अब एक नयी सोशल इंजीनियरिंग की शुरुआत होगी? और अगर ऐसा हुआ तो क्या देश की राजनीति में हम एक नया मोड़ देखेंगे? ठीक वैसे ही जैसे मंडल के बाद दलित-पिछड़ा राजनीति के बिलकुल नये समीकरण देखे गये थे. हालाँकि पिछले तीन साल में [..] Read More
Follow Us On Facebook

Recent Posts