Follow Raagdesh

twitter google_plus linkedin facebook mail
Oct 11
क्या-क्या सिखा सकती है एक झाड़ू?
राग देश  | क़मर वहीद नक़वी By: Qamar Waheed Naqvi
Comments: 0 

'राग देश' ईमेल पर मंगाएँ

'स्वच्छ भारत' अभियान बेहद ज़रूरी है. इसे पूरी शिद्दत और ईमानदारी से चलाया जाना चाहिए. लेकिन यह बात समझनी होगी कि इसे जनान्दोलन बनाये बग़ैर कुछ भी हासिल नहीं हो सकता! और यह जनान्दोलन कैसे बनेगा! तभी जब जनता को यह बात अपील करे. क्या वह अपील महज़ कुछ फ़िल्मी सितारों, कुछ उद्योगपतियों, कुछ नेताओं की भागीदारी से आ सकती है? और अगर आयी भी तो क्या वह स्थायी भाव के तौर पर जनता की चेतना में बनी रह सकती है?

--- क़मर वहीद नक़वी By: Qamar Waheed Naqvi तो झाड़ू अब 'लेटेस्ट' फ़ैशन है! बड़-बड़े लोग एक अदना-सी झाड़ू के लिए ललक-लपक रहे हैं! फ़ोटो छप रही है! धड़ाधड़! यहाँ-वहाँ हर जगह झाड़ू चलती दिखती रही है! आम आदमी पार्टी वाले हैरान हैं. झाड़ू उनकी थी. चला उसे बीजेपी वाले रहे हैं! और तो और, उनकी पुरानी नेता शाज़िया इल्मी झाड़ू के निशान पर दो चुनाव हारने के बाद पार्टी से तो हट गयीं, लेकिन झाड़ू उन्होंने फिर से पकड़ ली है! लेकिन इस बार यह झाड़ू 'आप' की नहीं, 'स्वच्छ भारत' अभियान की है!

जिस दिन इस देश का नागरिक सीख जायेगा कि उसे कचरा कहाँ और कैसे फेंकना है, उस दिन वह बहुत-सी और बातें भी सीख जायेगा!

raagdesh swachh bharat abhiyanबेचारे काँग्रेस वाले भी लटपटाये हुए हैं! मोहनलाल, मोहनलाल कहते-कहते नमो जी मोहनदास करमचन्द गाँधी को भी अपने साथ घसीट ले गये! अब अचानक उन्हें चाचा नेहरू पर भी प्यार आ गया! झाड़ू के चक्कर में शशि थरूर भी पड़ गये! थरूर पहले भी मोदी की तारीफ़ कर विवादों में फँस चुके हैं. अब फिर से केरल के काँग्रेसी उन पर झाड़ू ताने खड़े हैं! बहरहाल, शाज़िया भी यही कहती हैं और शशि थरूर भी कि 'स्वच्छ भारत' अभियान किसी पार्टी का कार्यक्रम तो है नहीं, तो इसमें हाथ बँटाने में क्या हरज? हरज तो कुछ नहीं है, बशर्ते कि मामले के पीछे कोई और मामला न हो!

क्या टोटकों से बनेगा जनान्दोलन?

और सारा पेंच यहीं है! 'स्वच्छ भारत' अभियान से भला किसे इनकार हो सकता है? सच तो यह है कि देश के लोग सफ़ाई से रहने की तमीज़ सीखें, यह बात तो बहुत पहले सोची और की जानी चाहिए थी! मोदी ने इसे शुरू किया, बड़ी अच्छी बात है! बड़ा नेक काम है, लेकिन वह नेक तभी तक रह सकता है, जब तक वह नेक इरादों से किया जाये! वरना फिर जो भी चीज़ राजनीति के पलड़ों पर रखी जायेगी, उसमें से गँध भी वैसी ही आयेगी और रंग भी वैसा ही निकलेगा, नतीजे भी वैसे ही होंगे! हमारे यहाँ राजनेता अकसर इस बात को समझ नहीं पाते कि बहुत-सी चीज़ें अगर राजनीति के बिना की जायें, तो उसके राजनीतिक फ़ायदे कहीं ज़्यादा मिल सकते हैं! और इसीलिए अकसर ऐसा होता है कि बड़ा बनने के बड़े-बड़े अवसर अकसर उनके हाथ से फिसल जाते हैं! सवाल यही है कि 'स्वच्छ भारत' अभियान क्या ऐसे टोटकों से कहीं पहुँच सकता है? ख़ास कर तब, जबकि देश की क़रीब आधी आबादी यानी लगभग साठ करोड़ लोग आज भी खुले में शौच के लिए अभिशप्त हैं! विश्व स्वास्थ्य संगठन की ताज़ा रिपोर्ट के मुताबिक पूरी दुनिया में क़रीब एक अरब लोग खुले में शौच करते हैं, जिनमें से साठ प्रतिशत केवल भारत में हैं! मोदी सरकार अगले पाँच सालों में ही हर घर में शौचालय का लक्ष्य पाना चाहती है. क्या यह कायाकल्प सिर्फ़ पाँच साल में हो सकेगा? मुश्किल लगता है! फिर भी चलिए मान लें कि सरकार अपना काम समय पर पूरा कर लेगी, तो भी क्या समस्या से छुटकारा मिल जायेगा? अभी गाँवों में जो विकल्प अपनाया जा रहा है, वह सोख़्ता शौचालयों का है. बड़ी आबादी वाले गाँवों में ऐसे शौचालय कुछ वर्षों के इस्तेमाल के बाद भूगर्भ जल को बुरी तरह प्रदूषित कर सकते हैं! और जहाँ आबादी उतनी ज़्यादा नहीं भी है, वहाँ भी इनके रोज़मर्रा के इस्तेमाल में इतनी सावधानी और सफ़ाई तो रखे जाने की ज़रूरत है ही कि मक्खियों को बीमारियाँ फैलाने का न्योता न मिल सके. क्या इन साठ करोड़ लोगों को इसके लिए तैयार किया जा सकता है कि वे शौचालयों का रखरखाव ठीक रख सकें? (पशुओं से होनेवाली गन्दगी इसमें शामिल कर लें तो समस्या और भी विकराल हो जाती है). ज़ाहिर है कि एक-एक नागरिक की सक्रिय और सचेत भागीदारी के बिना यह लक्ष्य पाया नहीं जा सकता! क्या हम लोगों को समझा पायेंगे कि ऐसी गन्दगी से कैसी बीमारियाँ फैलती हैं, जिनसे देश में हर साल लाखों लोग मरते हैं और देश को जो आर्थिक नुक़सान होता है, वह देश की जीडीपी के छह फ़ीसदी के बराबर है! यह सवाल इसलिए बहुत बड़ा हो जाता है कि हमारे देश में साफ़-सफ़ाई, स्वास्थ्य और यहाँ तक कि अपने ख़ुद के जीवन को लेकर लोगों में घोर उपेक्षा का एक अद्भुत भाव है! गाँव के लोग हों या शहर के, पढ़े-लिखे हों या अनपढ़, लोग समभाव से गन्दगी फैलाते हैं और सड़क पर यह मान कर चलते हैं कि चाहे वह कुछ भी कर लें, उनके साथ कोई दुर्घटना नहीं होगी! इसलिए तमाम सरकारी आयोजनों, तमाशों, सेलिब्रिटी तामझाम के बावजूद क्या यह एक स्थायी जनान्दोलन बन सकता है? क्या यह बात लोगों की चेतना में स्थायी जगह बना सकती है कि ख़ुद साफ़-सुथरा रहना, अपने पास-पड़ोस को साफ़-सुथरा रखना क्यों ज़रूरी है, उससे उन्हें क्या फ़ायदा होगा, उससे देश को क्या फ़ायदा होगा, सफ़ाई रखने जैसी मामूली-सी बात देश को आर्थिक तरक़्क़ी करने में कैसी ज़बर्दस्त मदद कर सकती है?

समस्या सिर्फ़ एक है!

पता नहीं, इस अभियान को शुरू करने के पहले इतनी गहराई में जा कर सोचने की ज़रूरत समझी गयी या नहीं? दरअसल, इस देश की मूल समस्या क्या है? जब तक हम इस एक बात पर उँगली नहीं धरेंगे, तब तक सारी कोशिशें, सारे इरादे, सारे अभियान, सारी योजनाएँ धरी की धरी ही रहेंगी. इस देश की केवल एक समस्या है. और दुर्भाग्य की बात यह है कि हम आज तक उस एक समस्या को या तो देख नहीं सके या देख कर भी कन्नी काट गये! वह समस्या यह है कि हम देश के नागरिकों को आज तक यह एहसास ही नहीं करा पाये कि नागरिक होने का मतलब क्या है? हम कभी इस बात पर ज़ोर नहीं दे पाये, कभी यह बात दम से रख नहीं पाये, कभी लोगों को यह ढंग से बता ही नहीं पाये या बताने की कोशिश ही नहीं की कि देश का हर नागरिक अगर केवल नागरिक के तौर पर अपने मामूली-मामूली और छोटे-छोटे कर्तव्य पूरा करता रहे तो देश कैसे असीम तरक़्क़ी कर सकता है? अब लोगों को यह समझ में ही नहीं आता कि अगर वह यहाँ-वहाँ कहीं भी कूड़ा फेंक देते हैं, तो इससे देश का क्या नुक़सान होता है? लोगों को यह भी समझ में नहीं आता कि अगर सड़कें, बाज़ार, नदियाँ, घाट, बस, ट्रेनें साफ़-सुथरी रहें, तो इससे देश की आर्थिक तरक़्क़ी कैसे हो सकती है? तभी तो ऐसा होता है कि ताजमहल जैसी सुन्दर चीज़ जिस शहर में हो, उस शहर को वहाँ के लोग इतना गन्दा रखते हों और उन्हें एहसास भी न हो कि इस गन्दगी से उनके शहर को क्या नुक़सान होता है! आगरा ही क्यों, देश में ज़्यादातर बड़े पर्यटन स्थलों पर भारी गन्दगी रहती है. क्या कभी लोगों ने सोचा कि अगर ये सारी जगहें साफ़ रहें तो वहाँ आनेवाले पर्यटकों की संख्या कितनी ज़्यादा बढ़ सकती है, उससे रोज़गार कितना बढ़ सकता है, समृद्धि और सम्पन्नता कितनी आ सकती है? मूल समस्या यह है कि हम यह देखते हैं कि हम जो काम कर रहे हैं, उससे हमें व्यक्तिगत तौर पर क्या फ़ायदा, क्या नुक़सान हो रहा है? इसलिए घर की सफ़ाई तो होती है, लेकिन बाहर कचरा कहाँ और कैसे डालना है, इसकी चिन्ता नहीं! कहीं भी डाल दो! कचरा उठाने का काम सफ़ाईकर्मी का है, वह जब आयेगा, ले जायेगा, नहीं आयेगा तो वैसे ही पड़ा रहेगा, सड़क तो 'सरकारी' है! वहाँ कचरा पड़ा है, तो मुझे क्या? कुत्ते उसे नोच-खसोट रहे हैं, पूरी सड़क पर फैला रहे हैं, तो मुझे क्या? सड़क गन्दी हो रही है, तो मुझे क्या नुक़सान? ऐसे में जब तक हम एक-एक आदमी को यह समझा और सिखा न पायें कि उसे कचरा कहाँ और कैसे फेंकना है, तब तक सफ़ाई का यह अभियान कैसे सफल होगा? तो क्या कुछ बड़े लोग सड़कों पर झाड़ू लगा दें, स्कूलों में बच्चों से 'श्रमदान' करा कर सफ़ाई कार्यक्रम चलवा लिया जाये, कॉलोनियों-मुहल्लों में कुछ स्वयंसेवी संगठनों के लोग जुट कर कोई पार्क, कोई नुक्कड़, कोई ठीहा साफ़ कर दें, अख़बारों में फ़ोटो आ जाये, टीवी पर ख़बरें चल जायें, क्या महज़ इतने से भारत स्वच्छ हो जायेगा? पर्यावरण बचाने, दीवाली पर पटाख़े न फोड़ने, दहेज न लेने, कन्या भ्रूण हत्याएँ रोकने आदि-आदि के बारे में चले तमाम अभियानों को लोगों ने देखा, तालियाँ बजायीं और भूल गये! नतीजा क्या हुआ? कुछ नहीं!

वह अपील कहाँ से आयेगी?

'स्वच्छ भारत' अभियान बेहद ज़रूरी है. इसे पूरी शिद्दत और ईमानदारी से चलाया जाना चाहिए. लेकिन यह बात समझनी होगी कि इसे जनान्दोलन बनाये बग़ैर कुछ भी हासिल नहीं हो सकता! और यह जनान्दोलन कैसे बनेगा! तभी जब जनता को यह बात अपील करे. क्या वह अपील महज़ कुछ फ़िल्मी सितारों, कुछ उद्योगपतियों, कुछ नेताओं की भागीदारी से आ सकती है? और अगर आयी भी तो क्या वह स्थायी भाव के तौर पर जनता की चेतना में बनी रह सकती है? यह बड़ा मुश्किल काम है. अन्ना के आन्दोलन का उदाहरण लेते हैं. एक अन्ना ने कैसे भ्रष्टाचार के विरुद्ध देश भर में अलख जगा दिया था! वह आन्दोलन राजनेताओं के भ्रष्टाचार के विरुद्ध था. जनता में उसने उस भ्रष्टाचार के विरुद्ध ग़ुस्सा तो पैदा किया, लेकिन ऐसी कोई प्रेरणा नहीं दी कि आम जनजीवन में जो भ्रष्टाचार है, लोग उसे भी त्यागने का संकल्प लें! नतीजा यही हुआ कि इतना बड़ा आन्दोलन कुछ दिनों बाद अब किसी को याद भी नहीं है! इसलिए 'स्वच्छ भारत' अभियान से जनता कैसे जुड़े और जुड़ने के बाद लगातार जुड़ी रहे, इसकी प्रेरणा निरन्तर कहाँ से आयेगी, कैसे आयेगी, यह बात अभी तक साफ़ नहीं है. पता नहीं, नमो को इस बात का अन्दाज़ है या नहीं कि जिस अभियान की शुरुआत उन्होंने की है, वह कितना महत्त्वपूर्ण है और अगर वह सफल हो गया तो वह कितने बुनियादी परिवर्तनों का जनक हो सकता है! जिस दिन इस देश का नागरिक सीख जायेगा कि उसे कचरा कहाँ और कैसे फेंकना है, उस दिन वह बहुत-सी और बातें भी सीख जायेगा! मसलन, सड़क पर कैसे चलना है, लाइन में कैसे लगना है, सार्वजनिक जगहों पर कैसे रहना है, ऐतिहासिक धरोहरों को कैसे बचा कर रखना है, दफ़्तरों में कैसे काम करना है, कारख़ानों में जो बन रहा है, बाज़ारों में जो बेचा जा रहा है, उसमें गुणवत्ता का ध्यान कैसे रखना है, सामान्य जीवन में सामान्य नियमों का पालन करते रहना एक स्वस्थ समाज के लिए कितना ज़रूरी है और अन्ततः यह कि राजनीति में स्वच्छता भी कितनी ज़रूरी है और कैसे लायी जा सकती है! (लोकमत समाचार, 11 अक्तूबर 2014)
'राग देश' ईमेल पर मंगाएँ

ADD COMMENT
Most Viewed
muslim-population-myth-and-reality

क्यों बढ़ती है मुसलिम आबादी?

 

तो साल भर से रुकी हुई वह रिपोर्ट अब...
Posted On 24th Jan 2015 2:21 hrs
economic-backwardness-literacy-and-muslim-population-growth

मुसलिम आबादी मिथ, भाग-दो!
मुसलिम आबादी का मिथ - भाग दो! पहला भाग कब आया? शायद 'राग...
Posted On 27th Aug 2016 7:47 hrs
can-demonetisation-curb-black-money

तो क्या ख़त्म हो जायेगा काला धन?
बस एक महीने पहले ही मैंने 'राग देश' में लिखा था कि कुछ...
Posted On 12th Nov 2016 12:35 hrs
मेरे बारे में….
स्वतंत्र स्तम्भकार. पेशे के तौर पर 35 साल से पत्रकारिता में. आठ साल तक (2004-12) टीवी टुडे नेटवर्क के चार चैनलों आज तक, हेडलाइन्स टुडे, तेज़ और दिल्ली आज तक के न्यूज़ डायरेक्टर. 1980 से 1995 तक प्रिंट पत्रकारिता में रहे और इस बीच नवभारत टाइम्स, रविवार, चौथी दुनिया में वरिष्ठ पदों पर काम किया. 13-14 साल की उम्र से किसी न किसी रूप में पत्रकारिता और लेखन में सक्रियता रही. Read more
त्वरित टिप्पणी
तीन तलाक़ और नयी सोशल इंजीनियरिंग तीन तलाक़ पर फ़ैसले के बाद क्या अब एक नयी सोशल इंजीनियरिंग की शुरुआत होगी? और अगर ऐसा हुआ तो क्या देश की राजनीति में हम एक नया मोड़ देखेंगे? ठीक वैसे ही जैसे मंडल के बाद दलित-पिछड़ा राजनीति के बिलकुल नये समीकरण देखे गये थे. हालाँकि पिछले तीन साल में [..] Read More
Follow Us On Facebook

Recent Posts