Follow Raagdesh

twitter google_plus linkedin facebook mail
Jan 13
राहुल जी, डरो मत, कुछ करो!
त्वरित टिप्पणी  | क़मर वहीद नक़वी By: Qamar Waheed Naqvi
Comments: 6 

जनता के पास बीजेपी का कोई विकल्प नहीं है. जनता की बस यही एक वेदना है. और यह वेदना तो तभी ख़त्म होगी, जब काँग्रेस पहले अपनी 'वेदना' दूर करे! 'जन वेदना सम्मेलन' में राहुल गाँधी ने काँग्रेसियों से कहा कि डरो मत! काँग्रेसियों के पास अब डरने को बचा ही क्या है? उन्हें अब और क्या खोना है? वह तो ख़ाली हाथ हैं! राहुल जी, 'डरो मत' के बजाय कुछ करने की बात कीजिए! डरने के लिए काँग्रेस के पास कुछ भी नहीं बचा है. करने के लिए बहुत कुछ है. 


congress-in-oblivion
'राग देश' ईमेल पर मंगाएँ
काँग्रेस का 'जन वेदना सम्मेलन' देखा. समझ में नहीं आया कि यह किसकी वेदना की बात हो रही है? जनता की वेदना या काँग्रेस की? जनता अगर इतनी ही वेदना में है तो हाल-फ़िलहाल के छोटे-मोटे चुनावों में लगातार बीजेपी को वोट दे कर वह अपनी 'वेदना' बढ़ा क्यों रही है?

काँग्रेस की वेदना कितनी है, ज़रा किसी काँग्रेसी से 'ऑफ़ द रिकार्ड' बात करके देखिए, पता चल जायेगा. और यह भी पता चल जायगा कि काँग्रेस ऐसी वेदना में लगातार क्यों लटकी हुई है?

और जनता की अगर कोई वेदना है तो वह यही कि काँग्रेस अपनी 'वेदना' दूर करने के लिए रत्ती भर भी कुछ करती क्यों नहीं? ढाई साल तक लबड़ धों-धों करते रहने के सिवा काँग्रेस ने आख़िर किया क्या? सरकार से, बीजेपी से या किसी भी पार्टी से जनता अगर बड़ी दुःखी हो, तो भी वह किस बात के लिए, किस आसरे, किस भरोसे काँग्रेस को वोट देने की सोचे?

काँग्रेस : न नेता, न कार्यक्रम, न दिशा

कहीं पंजाब जैसी बड़ी ही बेबसी, बड़ी ही मजबूरी हो कि जनता को त्रिभुज के बाक़ी दोनों कोण इतने ही ऐंचे लगने लगें कि वह काँग्रेस का जुआ अपने गले बाँधने का जोखिम लेने की सोचे तो सोचे, वरना काँग्रेस तो ऐसी ठस पड़ी है कि न हिलती है, न डुलती है. क्यों? इसलिए कि काँग्रेस घोर अनिश्चय में जकड़ी हुई है. काँग्रेस के पास न नेता है, न नारे, न लक्ष्य है, न दिशा, न कार्यक्रम है, न रणनीति, न इच्छा है, न दिलचस्पी, न भविष्य का कोई स्वप्न है, न वर्तमान की कोई जद्दोजहद.

ऐसी किसी जद्दोजहद का जज़्बा होता, तो उत्तर प्रदेश चुनाव के ठीक पहले पार्टी के नेता को छुट्टी मनाना क्यों सूझता?

जनता के पास बीजेपी का कोई विकल्प नहीं है. जनता की बस यही एक वेदना है. और यह वेदना तो तभी ख़त्म होगी, जब काँग्रेस पहले अपनी 'वेदना' दूर करे! 'जन वेदना सम्मेलन' में राहुल गाँधी ने काँग्रेसियों से कहा कि डरो मत! काँग्रेसियों के पास अब डरने को बचा ही क्या है? उन्हें अब और क्या खोना है? वह तो ख़ाली हाथ हैं!

डरने के लिए काँग्रेस के पास क्या बचा?

राहुल जी, 'डरो मत' के बजाय कुछ करने की बात कीजिए! डरने के लिए काँग्रेस के पास कुछ भी नहीं बचा है. करने के लिए बहुत कुछ है. और जो करना चाहता है, वह देखते ही देखते उठ खड़ा होता है, सब कर लेता है. अखिलेश यादव की मिसाल सामने है. अभी डेढ़ साल पहले तक वह 'बबुआ' कहाते थे. जनता उन्हें लगभग ख़ारिज कर चुकी थी. समय रहते अखिलेश ने यह बात समझ ली. एक साल में ही लोगों ने एक बिलकुल नये दृढ़संकल्पी, जुझारू और क़द्दावर अखिलेश को देखा.

अखिलेश ने अपनी कमियाँ पहचानीं और उन्हें दूर करने के लिए जो करना था, किया. साफ़ है कि नरेन्द्र मोदी के 'राजनीतिक मैनेजमेंट' को किसी ने सबसे ज़्यादा सही तरीक़े से भाँपा और सीखा तो वह अखिलेश ही हैं. लोगों के बीच सर्वे करा-करा कर अखिलेश ने सफलतापूर्वक 'इमेज-करेक्शन' कर लिया, ख़ुद को भी बदला और अपने बारे में, अपनी पार्टी के बारे में लोगों की राय भी बदली. चुनाव में अखिलेश हारें या जीतें, कम से कम वह 'बबुआ मुख्यमंत्री' के तौर पर इतिहास में नहीं दर्ज होंगे.

राहुल गाँधी ख़ुद को बदलेंगे क्या?

लेकिन राहुल गाँधी ख़ुद को बदलेंगे क्या? यह सवाल इसलिए कि काँग्रेस राहुल गाँधी को बदले और किसी और के पीछे चलना शुरू कर दे, इसकी सम्भावना तो है ही नहीं, कम से कम अभी तो दिखती नहीं. इसलिए काँग्रेस की छवि तो तभी बदलेगी, जब राहुल गाँधी की अपनी छवि बदले!

लेकिन सवाल यह है कि 2014 की धूल-धूसरित हार के बाद के ढाई साल में राहुल गाँधी ने क्या सीखा, क्या बदला? बस इतना ज़रूर हुआ कि पहले के मुक़ाबले बोलने की कला में वह मामूली सुधार कर पाये हैं. लेकिन जब मुक़ाबले पर नरेन्द्र मोदी जैसा बोलनेवाला हो, तो बस इतने-से काम कैसे चलेगा?

गम्भीर मुद्दों पर इतने 'अनजान' क्यों?

बुधवार के 'जन वेदना सम्मेलन' के उनके भाषणों को ही लीजिए. उन्हें पता नहीं कि मंगल पर मंगलयान भेजा गया था या चन्द्रयान? याद नहीं कि 'स्वच्छ भारत' और 'मेक इन इंडिया' के अलावा मोदी सरकार कौन-कौन से कार्यक्रम चला रही है. मंच पर मौजूद नेताओं को बाक़ी के नाम बताने पड़े. फिर भी राहुल गाँधी ने उसमें 'टीच इंडिया' जोड़ दिया! भाषण में उन्होंने कहा कि 'अभी एंटनी जी बता रहे थे कि कुछ ही घंटे पहले या शायद एक दिन पहले रिज़र्व बैंक को चिट्ठी गयी कि आप 'डिमानेटाइज़ेशन' करने को तैयार हो या नहीं?' चिदम्बरम से उन्हें पूछना पड़ा कि वे कौन-से देशों के नाम बता रहे थे, जहाँ 80 प्रतिशत से ज़्यादा लेन-देन नक़द में होता है!

नोटबंदी पर इस तरह के तमाम तथ्य आज हर आदमी की ज़बान पर हैं. लेकिन राहुल गाँधी को मालूम नहीं. ऐसे गम्भीर मुद्दे पर भी कोई नेता इतना अनजान, इतना 'अगम्भीर' हो, तो उससे क्या उम्मीद की जा सकती है? कौन उसे 'भावी प्रधानमंत्री' के तौर पर देखने को तैयार होगा? ख़ास कर आज के दौर में, जब नेता अपनी छवि, अपनी बात, अपने मैनरिज़्म, अपने व्यक्तित्व को लेकर इतना सचेत हों.

नरेन्द्र मोदी से सीखें राहुल

नरेन्द्र मोदी को लीजिए. सोशल मीडिया पर उनका कम मज़ाक़ नहीं उड़ता. लेकिन वह उससे कितना सीखते हैं, इसका अन्दाज़ इसी से लग सकता है कि नव वर्ष की पूर्व सन्ध्या पर दिये अपने भाषण में उन्होंने एक बार भी 'मितरों' नहीं बोला.

आज की राजनीति में नेता को इतना ही सचेत होना पड़ेगा. यह बेमन वाली आधी-अधूरी राजनीति राहुल गाँधी के लिए भी ख़राब है और काँग्रेस के लिए भी. राहुल गाँधी को अगर राजनीति में टिकना है तो उनके पास अपने लिए भी एक ख़ाका होना चाहिए कि उन्हें अपने भीतर क्या बदलाव कितने दिन में कर लेने हैं और एक ख़ाका काँग्रेस के लिए भी होना चाहिए कि पार्टी का पुनरुद्धार कैसे होगा.

क्यों नहीं चल पाये प्रशान्त किशोर?

उत्तर प्रदेश में प्रशान्त किशोर को बड़े ताम-झाम से लाया गया और कुछ ही महीनों में इस 'चुनाव-गुरू' को 'बेआबरू' हो कर बाहर बैठना पड़ा. जो मोदी और नीतीश के साथ चुपचाप काम कर सका, वह घिसे-घिसाये काँग्रेसी नेताओं के आगे क्यों चल नहीं पाया? आख़िर कहीं न कहीं भारी गड़बड़ तो है.

गड़बड़ यही है कि पार्टी के पास कोई प्लान नहीं है. राज्यों में किन नेताओं को उभारा जाये, कैसे पार्टी को खड़ा किया जाये, इसकी कोई योजना नहीं. पार्टी कट-पेस्ट से, तरह-तरह के 'एडजस्टमेंट' से किसी तरह काम चला रही है.

काम चलाना अलग बात है, और काम करना बिलकुल अलग मुहावरा है. काम करने के लिए डर और हिचकिचाहट छोड़नी पड़ती है. मुझे लगता है कि 'डरो मत' का नारा बिलकुल सही है, लेकिन यह कार्यकर्ताओं के लिए नहीं, ख़ुद राहुल गाँधी के लिए है.

तो राहुल जी, डरो मत, कुछ करो, कुछ कर दिखाओ. काँग्रेस के पास खोने को कुछ नहीं है.

BBC Hindi के लिए 13 जनवरी 2016 को लिखी गयी टिप्पणी

© 2017 http://raagdesh.com by Qamar Waheed Naqvi

email: qwnaqvi@raagdesh.com
'राग देश' ईमेल पर मंगाएँ

ADD COMMENT
  • Amit Agarwal

    Behad dilchasp!

    • qwn

      धन्यवाद अमित जी.

  • Pradeep Paliwal

    मेरा एक कमेण्ट…
    क़मर जी…
    सादर अभिवादन !
    ‘जन वेदना सम्मेलन’ के संदर्भ में आपके विचार पढ़े.
    अच्छा लगा,शुभकामनाएं एक अच्छे रचनात्मक लेख के लिए.
    वहीद जी,मेरा विचार है आज भी जनता के पास कांग्रेस के रूप में बीजेपी का स्वाभाविक विकल्प है और रहेगा ! आप को अतिशयोक्ति लग सकती है लेकिन मैं तो यहाँ तक मानता हूँ हिचक छोड़कर यदि कांग्रेस ने राजनीतिक रूप से ‘मनमोहन सिंह जी’ को दर किनार कर ‘राहुल’ जी को पीएम के रूप में लॉन्च किया होता,उन पर ज़्यादा बड़ी जिम्मेदारी डाली होती तो वे न जाने कब के ‘स्किल्ड’ हो चुके होते…! एक नौकर शाह राज्य सभाई पीएम से चुना हुआ युवराज बेहतर साबित होता। फिर थिंक टैंकों की पूरी अनुभवी टीम उनके पास थी ही.
    नक़वी सर, मेरा दावा है राहुल कल के ‘भारत भाग विधाता’ होंगे ! लोकतंत्र में जब ‘चाय’ वाला पीएम बन सकता है तो फिर ‘युवराज’ तो ख़ानदानी पीएम हैं, होंगे. बुरा क्या है ?
    जानते हैं फच्चर यहाँ नहीं फँसा कि राहुल जी की स्पीच असंदर्भित होती है,उसमें तथ्यों के साथ अन्य भूलें भी होती हैं. आप हमें मौक़ा दें तो हम आपको प्रभावी,ओजस्वी और न जाने क्या-क्या मोदी सर के भाषण में पचासों इरामर-ग्रामर की गलतियाँ बता सकता हूँ. कभी-कभी उनका पूरा वाक्य विन्यास ही चौपट होता है. लेकिन राहुल की तुलना में मोदी जी इसलिए प्रभावी दिखते हैं क्योंकि एक तो उनकी तैयारी ‘विहंगम’ मल्टीटास्किंग होती है. ग्लेमर वाली सादग़ी उनकी usp है. योगी / त्यागी तो वे हैं ही. सबसे बड़ी बात है मोदी जी इतनी ऊंचाई पर खड़े होने के बावज़ूद आज भी कुछ करने का भाव रखते हैं,सीखने का भाव रखते
    हैं ! वे जिज्ञासू बने रहते हैं. और यही बात हम जैसों को उनका मुरीद बना देती है.
    राजनीति में मोदी जी अंतिम नहीं हैं ! अतः यह कहना कि भारत की राजनीति मोदी जी के रहते विकल्प हीन हो चुकी है,सही नहीं होगा. आसमां और भी हैं.
    कुछ अच्छे ( खटिया खड़ी करने वाले नहीं ) सही मायनों में सच्चे विजनरी प्रोग्राम्स के साथ राहुल जी आगे आएं तो मेरा विश्वास है कि ये ‘डिंपल’ वाला युवा आज भी आम भारतीयों का दिल जीत सकता है.
    आमीन !!
    नोट- वहीद जी,मैं मोदी जी का फ़ैन हूँ. लेकिन मेरे अंदर बैठा ‘पत्रकार’ कभी भी नहीं चाहेगा कि भारत की राजनीति ‘विपक्ष’ हीन हो !
    और हाँ ! यूपी सीएम अखिलेश के कद्दावर होने के छद्म पर मैं फिर कभी आपसे बातें करूंगा.
    – प्रदीप पालीवाल ( 09761453660 )

    • qwn

      लेख पढ़ने के लिए धन्यवाद प्रदीप जी.
      आपने लिखा है कि ‘सच्चे मायनों में कुछ अच्छे विज़नरी प्रोग्राम्स के साथ राहुल आयें तो वह आम भारतीयों का दिल जीत सकते हैं.’
      बिलकुल सही है. और यही बात तो मैंने लिखी है कि काँग्रेस के पास न कार्यक्रम हैं, न दिशा है और न रणनीति. यदि काँग्रेस के पास यह सब होता, तब क्या समस्या थी. और कार्यक्रम, दिशा, रणनीति तय करने का काम है किसका? ज़ाहिर है कि पार्टी के नेता को ही यह तय करना होता है कि उसका लक्ष्य क्या होगा और उसे कैसे पाया जा सकता है? राहुल गाँधी ने अब तक यही नहीं किया है.
      और कई बार वह ऐसा कर देते हैं, जिससे सवाल उठते हैं कि पार्टी का नेतृत्व करने में उनकी रुचि है भी या नहीं. वरना उत्तर प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड जैसे महत्त्वपूर्ण राज्यों के चुनाव को छोड़ कर नये साल मनाने निकल जाने का क्या तुक है? ऐसा तभी हो सकता है, जब पार्टी को अति आत्मविश्वास हो कि वह चुनाव हार ही नहीं सकती या उसने मान लिया हो कि खेल तो पहले ही ख़त्म हो चुका है, अब कुछ फ़ायदा नहीं या फिर पार्टी का नेता पार्टी के भविष्य से बिलकुल उदासीन हो.
      पिछले दस सालों में राहुल को केन्द्र में मंत्री बनाने के सुझाव कई बार आये, लेकिन वह इसके लिए कभी तैयार नहीं हुए.
      बहरहाल, असली चिन्ता राहुल या काँग्रेस नहीं हैं.
      और यह आपने भी लिखा है. असली मुद्दा है कि स्वस्थ लोकतंत्र के लिए देश में मज़बूत विपक्ष होना चाहिए.

      • Pradeep Paliwal

        aabhaar sir…!

  • जब कुछ करने लायक थे तब ही न कुछ किया तो अब क्या करेंगे ???

Most Viewed
muslim-population-myth-and-reality

क्यों बढ़ती है मुसलिम आबादी?

 

तो साल भर से रुकी हुई वह रिपोर्ट अब...
Posted On 24th Jan 2015 2:21 hrs
economic-backwardness-literacy-and-muslim-population-growth

मुसलिम आबादी मिथ, भाग-दो!
मुसलिम आबादी का मिथ - भाग दो! पहला भाग कब आया? शायद 'राग...
Posted On 27th Aug 2016 7:47 hrs
can-demonetisation-curb-black-money

तो क्या ख़त्म हो जायेगा काला धन?
बस एक महीने पहले ही मैंने 'राग देश' में लिखा था कि कुछ...
Posted On 12th Nov 2016 12:35 hrs
मेरे बारे में….
स्वतंत्र स्तम्भकार. पेशे के तौर पर 35 साल से पत्रकारिता में. आठ साल तक (2004-12) टीवी टुडे नेटवर्क के चार चैनलों आज तक, हेडलाइन्स टुडे, तेज़ और दिल्ली आज तक के न्यूज़ डायरेक्टर. 1980 से 1995 तक प्रिंट पत्रकारिता में रहे और इस बीच नवभारत टाइम्स, रविवार, चौथी दुनिया में वरिष्ठ पदों पर काम किया. 13-14 साल की उम्र से किसी न किसी रूप में पत्रकारिता और लेखन में सक्रियता रही. Read more
त्वरित टिप्पणी
क्यों राहुल-अखिलेश को यह साथ पसन्द है? लखनऊ में रविवार को राहुल-अखिलेश के साझा रोड शो के कुछ राजनीतिक सन्देश बड़े स्पष्ट हैं. एक, यह महज़ उत्तर प्रदेश का चुनावी गठबन्धन नहीं है, बल्कि 2019 का विपक्षी राजनीति का रोडमैप है. यानी गठबन्धन को लम्बा चलना है.

दो, दाँव पर सिर्फ़ एक चुनाव की [..] Read More
Follow Us On Facebook

Recent Posts