Follow Raagdesh

twitter google_plus linkedin facebook mail
Comments: 10 
2004
164
Share
hardik-patel-demands-reservation-free-india
गुजरात के पाटीदार अनामत आन्दोलन (Patidar Anamat Andolan) के पहले हार्दिक पटेल को कोई नहीं जानता था. हालाँकि वह पिछले दो साल में छह हज़ार हिन्दू लड़कियों की 'रक्षा' कर चुके हैं! ऐसा उनका ...
Comments: 7 
1054
41
Share
muslim-personal-law-board-announced-din-and-dastur-bachao-tehrik
अल्पसंख्यक राजनीति में नयी खदबदाहट शुरू हो गयी है! एक तरफ़ हैं संघ, बीजेपी और एनडीए सरकार, दूसरी तरफ़ है मुसलिम पर्सनल लाॅ बोर्ड (Muslim Personal Law Board), तीसरा कोण है मजलिस इत्तेहादुल ...
Comments: 12 
1433
89
Share
where-is-politics-of-accord-as-promised-by-pm-modi-on-2014-independence-day
चौदह के पन्द्रह अगस्त और पन्द्रह के पन्द्रह अगस्त में क्या फ़र्क़ है? चौदह में 'सहमति' का शंखनाद था, पन्द्रह में टकराव की अड़! याद कीजिए चौदह में लाल क़िले से प्रधानमंत्री ...
Comments: 2 
1572
69
Share
indo-pak-relations-a-long-history-of-deep-mistrust
पाकिस्तान है कि मानता नहीं! मुँह में बात, बग़ल में छुरी! इधर बात, उधर छुरी! हम बतकही करते हैं, पाकिस्तान बतछुरी करता है! हर बार यही होता है. इस बार भी यही हुआ. वहाँ उफ़ा में बात ...
Comments: 6 
393
82
Share
case-of-yakub-memon-hanging-and-raging-debate-of-nationalism
याक़ूब मेमन को तो फाँसी हो चुकी. बहस जारी है. और शायद अभी यह बहस जारी रहे. बहुत-सारी बातें हो चुकी हैं. मज़हबी रंग की बातें हो चुकी हैं, राष्ट्रवादी जुमलों की तोपें चल चुकी हैं, ...
Most Viewed
hardik-patel-demands-reservation-free-india क्यों ‘आरक्षण-मुक्त’ भारत का नारा?
गुजरात के पाटीदार अनामत आन्दोलन (Patidar Anamat Andolan) के पहले
Posted On  29th Aug 2015 8:27
emergency-namo-and-his-brand-of-liberal-democracy तोते वही बोलें, जो संघ बुलवाये!
लोकतंत्र सुरक्षित है! आडवाणी जी की बातों में बिलकुल न
Posted On  27th Jun 2015 9:28
muslim-personal-law-board-announced-din-and-dastur-bachao-tehrik मुसलिम हलचल के चार कोण!
अल्पसंख्यक राजनीति में नयी खदबदाहट शुरू हो गयी है! एक
Posted On  22nd Aug 2015 12:09
मेरे बारे में….
स्वतंत्र स्तम्भकार. पेशे के तौर पर 35 साल से पत्रकारिता में. आठ साल तक (2004-12) टीवी टुडे नेटवर्क के चार चैनलों आज तक, हेडलाइन्स टुडे, तेज़ और दिल्ली आज तक के न्यूज़ डायरेक्टर. 1980 से 1995 तक प्रिंट पत्रकारिता में रहे और इस बीच नवभारत टाइम्स, रविवार, चौथी दुनिया में वरिष्ठ पदों पर काम किया. 13-14 साल की उम्र से किसी न किसी रूप में पत्रकारिता और लेखन में सक्रियता रही. Read more
विशेष
व्यापम की सीबीआइ जाँच
Posted On  20th May 2015 12:16  hrs
सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद व्यापम घोटाले की जाँच सीबीआइ करेगी. सीबीआइ की पहली चुनौती है यह पता लगाना कि पत्रकार अक्षय सिंह की मौत कैसे हुई? इस सवाल का जवाब व्यापम के बहुत सारे रहस्यों पर से पर्दा उठा सकता है. नीचे पढ़िए क़मर वहीद नक़वी का विश्लेषण.
त्वरित टिप्पणी
सीबीआइ की पहली चुनौती है अक्षय का मामला पत्रकार अक्षय सिंह की मौत कैसे हुई? क्या वह व्यापम घोटाले के किसी नये सच तक पहुँचने के क़रीब थे? क्या नम्रता दामोर की संदिग्ध मौत की पड़ताल करते-करते अक्षय इस घोटाले के किसी और सिरे तक पहुँचनेवाले थे? इन्दौर में कौन-कौन इस बात को जानता था कि अक्षय वहाँ [..] Read More
Follow Us On Facebook

Recent Posts
Please wait...

Subscribe to our newsletter

Want to be notified when our article is published? Enter your email address and name below to be the first to know.