Follow Raagdesh

twitter google_plus linkedin facebook mail
Comments: 34 
1618
52
EmailShare
modi-2.2
मोदी 2.1 पर तो ख़ूब बहस हो चुकी. बहस अभी और भी होगी. सरकार का पहला साल कैसा बीता, मोदी सरकार अपनी कहेगी, विरोधी अपनी कहेंगे, समीक्षक-विश्लेषक अपनी कहेंगे, बाल की खाल निकलेगी. ...
Comments: 167 
1654
95
EmailShare
image2
दिल्ली दिलचस्प संयोग देख रही है. एक सरकार के सौ दिन, दूसरी के एक साल! दिलचस्प यह कि दोनों ही सरकारें अलग-अलग राजनीतिक सुनामियाँ लेकर आयीं. बदलाव की सुनामी! जनता ने दो बिलकुल ...
Comments: 57 
1728
93
EmailShare
image1-300x158
देश में बहुत कुछ हो रहा है. मोदी सरकार के एक साल पूरे होने वाले हैं. बड़ी तीखी बहस हो रही है इस पर. सरकार ने एक साल में क्या किया? राहुल गाँधी नये जोश में दिख रहे हैं. वह ख़ुद तो ...
Comments: 45 
941
72
EmailShare
image
जिस देश में चाँद उलटा निकल सकता है, हम उस देश के वासी हैं! बात अफ़वाह की नहीं है, जो अभी आये भूकम्प के बाद फैली और तेज़ी से फैली, लेकिन उतनी ही तेज़ी से ख़ारिज भी हो गयी. बात ...
Comments: 76 
2153
43
EmailShare
image2
यह 'डांस आॅफ़ डेमोक्रेसी' है! लोकतंत्र का नाच! राजस्थान के किसान गजेन्द्र सिंह कल्याणवत की मौत के बाद जो हुआ, जो हो रहा है, उसे और क्या कहेंगे? यह राजनीति का नंगा नाच है. बेशर्म ...
Most Viewed
modi-2.2 ऐप्प मोदी 2.2 को क्या अपडेट चाहिए?
मोदी 2.1 पर तो ख़ूब बहस हो चुकी. बहस अभी और भी होगी. सरकार का
Posted On  23rd May 2015 6:24
image2 सौ दिन, एक साल, दो सरकारें!
दिल्ली दिलचस्प संयोग देख रही है. एक सरकार के सौ दिन, दूसरी
Posted On  16th May 2015 7:35
image उलटे चाँद के देश में!
जिस देश में चाँद उलटा निकल सकता है, हम उस देश के वासी हैं!
Posted On  2nd May 2015 7:37
मेरे बारे में….
स्वतंत्र स्तम्भकार. पेशे के तौर पर 35 साल से पत्रकारिता में. आठ साल तक (2004-12) टीवी टुडे नेटवर्क के चार चैनलों आज तक, हेडलाइन्स टुडे, तेज़ और दिल्ली आज तक के न्यूज़ डायरेक्टर. 1980 से 1995 तक प्रिंट पत्रकारिता में रहे और इस बीच नवभारत टाइम्स, रविवार, चौथी दुनिया में वरिष्ठ पदों पर काम किया. 13-14 साल की उम्र से किसी न किसी रूप में पत्रकारिता और लेखन में सक्रियता रही. Read more
विशेष
मोदी का एक साल
Posted On  20th May 2015 12:16  hrs
कैसा रहा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का पहला साल? उनका यह नारा सही है कि 'साल एक, शुरुआत अनेक.' लेकिन इन शुरुआतों में भविष्य के लिए कैसे संकेत छिपे हैं? नीचे पढ़िए, क़मर वहीद नक़वी का विश्लेषण.
त्वरित टिप्पणी
अनेक, नेक और कुछ बेनेक शुरुआतें! 'साल एक, शुरुआत अनेक'- और 'मोदी सरकार, विकास लगातार'-- अपनी पहली सालगिरह की मार्केटिंग मोदी सरकार इन नारों के साथ करनेवाली है! सरकार एक साल में अपनी तीन सौ उपलब्धियों की लम्बी-चौड़ी सूची भी पेश करने वाली है. 365 दिन और तीन सौ उपलब्धियाँ! औसतन हर दिन एक नयी [..] Read More

आपका वोट

  • क्या दिल्ली में अफ़सरों की नियुक्ति का अधिकार दिल्ली सरकार को होना चाहिए?

    View Results

    Loading ... Loading ...
Follow Us On Facebook

Recent Posts
Please wait...

Subscribe to our newsletter

Want to be notified when our article is published? Enter your email address and name below to be the first to know.