Follow Raagdesh

twitter google_plus linkedin facebook mail
Comments: 2 
376
37
Share
racial-discrimination-in-india-raises-its-ugly-face-in-bengaluru
मन के अन्दर, कितनी गाँठों के कितने अजगर, कितना ज़हर? ताज्जुब होता है! जब एक पढ़ी-लिखी भीड़ सड़क पर मिनटों में अपना उन्मादी फ़ैसला सुनाती है, बौरायी-पगलायी हिंसा पर उतारू हो ...
Comments: 8 
5009
610
Share
genome-study-reveals-history-of-caste-system-in-india
भारत में जाति कहाँ से आयी? किसकी देन है? बहस बड़ी पुरानी है. और यह बहस भी बड़ी पुरानी है कि आर्य कहाँ से आये? इतिहास खोदिए, तो जवाब के बजाय विवाद मिलता है. सबके अपने-अपने इतिहास ...
Comments: 19 
2198
152
Share
rohith-vemula-suicide-and-dalit-discrimination
रोहित वेमुला ने आत्महत्या क्यों की? वह कायर था? अवसाद में था? ज़िन्दगी से हार गया था? उसके मित्रों ने उसकी मदद की होती, तो उसे आत्महत्या से बचाया जा सकता था? क्या उसकी ...
Comments: 1 
1904
32
Share
pathankot-and-indo-pak-relations
क्या पाकिस्तान बदल रहा है? पठानकोट के बाद पाकिस्तान की पहेली में यह नया सवाल जुड़ा है. लोग थोड़ा चकित हैं. कुछ-कुछ अजीब-सा लगता है. आशंकाएँ भी हैं, और कुछ-कुछ आशाएँ भी! यह हो ...
Comments: 9 
8905
1156
Share
indian-muslims-malda-riots-and-few-questions
माल्दा एक सवाल है मुसलमानों के लिए! बेहद गम्भीर और बड़ा सवाल. सवाल के भीतर कई और सवालों के पेंच हैं, उलझे-गुलझे-अनसुलझे. और माल्दा अकेला सवाल नहीं है. हाल-फ़िलहाल में कई ऐसी ...
Most Viewed
indian-muslims-malda-riots-and-few-questions माल्दा, मुसलमान और कुछ सवाल!
माल्दा एक सवाल है मुसलमानों के लिए! बेहद गम्भीर और बड़ा
Posted On  9th Jan 2016 1:00
india-and-uniform-civil-code कामन सिविल कोड से क्यों डरें?

जो बहस पचास-साठ साल पहले ख़त्म हो जानी चाहिए

Posted On  17th Oct 2015 12:35
hardik-patel-demands-reservation-free-india क्यों ‘आरक्षण-मुक्त’ भारत का नारा?
गुजरात के पाटीदार अनामत आन्दोलन (Patidar Anamat Andolan) के पहले
Posted On  29th Aug 2015 8:27
मेरे बारे में….
स्वतंत्र स्तम्भकार. पेशे के तौर पर 35 साल से पत्रकारिता में. आठ साल तक (2004-12) टीवी टुडे नेटवर्क के चार चैनलों आज तक, हेडलाइन्स टुडे, तेज़ और दिल्ली आज तक के न्यूज़ डायरेक्टर. 1980 से 1995 तक प्रिंट पत्रकारिता में रहे और इस बीच नवभारत टाइम्स, रविवार, चौथी दुनिया में वरिष्ठ पदों पर काम किया. 13-14 साल की उम्र से किसी न किसी रूप में पत्रकारिता और लेखन में सक्रियता रही. Read more
त्वरित टिप्पणी
पाकिस्तान: एक अटका हुआ सवाल India-Pakistan Relations | पाकिस्तान एक अटका हुआ सवाल है. वह इतिहास की एक विचित्र गाँठ है. न खुलती है, न बाँधती है, न टूटती है, न जोड़ती है. रिश्तों का अजीब सफ़रनामा है यह! एक युद्ध, जो कहीं और कभी रुकता नहीं. एक युद्ध जो सरकारों के बीच है, और एक युद्ध जो जाने [..] Read More
Follow Us On Facebook

Recent Posts